Best [65+] Ghalib Shayari | Mirza Ghalib Shayari

Ghalib Shayari – Mirza Asadullah Baig Khan also known as Mirza “Ghalib” was an Indian poet. Here we have the best collection of Mirza Ghalib Shayari. These Mirza Ghalib Shayari are amazing and easy to understand. This article includes Ghalib Shayari On Zindagi, Ghalib Shayari In Hindi, Ghalib Shayari In Urdu, Ghalib Ki Shayari, Ghalib Shayari On Love etc.

Here you can find some Good Quality Ghalib Shayari with Images that you can easily download and share with your Social Media, These Mirza Ghalib Shayari will definitely attract your Crush, Husban/Wife, Girlfriend/Boyfriend and Friends and Family.

Hope you love our collection of Ghalib Quotes And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add new Ghalib Shayari here. You can also check out Rahat Indori Shayari.

Mirza Ghalib Shayari

Download

Ghalib Shayari

Huyi Muddat Ke Ghalib Mar Gaya
Par Yaad Aata Hai
Woh Har Ek Baat Pe Kehna
Ke Yun Hota Toh Kya Hota

हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया
पर याद आता है
वो हर इक बात पर कहना
कि यूँ होता तो क्या होता

Tha Zindagi Mein Marg Ka Khatka Laga Hua
Udne Se Peshtar Bhi Mera Rang Zard Tha

था ज़िन्दगी में मर्ग का खटका लगा हुआ
उड़ने से पेश्तर भी मेरा रंग ज़र्द था

Zindagi Apni Jab Is Shaqal Se Guzari Ghalib
Hum Bhi Kya Yaad Karenge Ke Khuda Rakhte The

ज़िन्दगी अपनी जब शक़ल से गुज़री ग़ालिब
हम भी क्या याद करेंगे के खुदा रखते थे

Piyun Sharab Agar Khum Bhi Dekh Lu Do Char
Yeh Shisha-O-Kahad-O-Kuza-O-Subu Kya Hain

पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है

Chipak Raha Hai Badan Par Lahu Se Pairahan
Hamari Zeb Ko Ab Hajat-E-Rafu Kya Hai

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी ज़ेब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है

Karz Ki Peete The Mai Lekin Samjhte The Ki Haan
Rang Laavegi Hamari Faaqa-Masti Ek Din

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन

Mai Se Garaz Nashaat Hai Kis Rusiyaah Ko
Ik Gunaah Bekhudi Mujhe Din Raat Chahiye

मै से ग़रज़ नशात है किस रूसियाह को
इक गुनाह बेखुदी मुझे दिन रात चाहिए

Yeh Masail-E-Tasavvuf Yeh Tera Bayaan Ghalib
Tujhe Hum Wali Samjhate Jo Na Bada-Khavar Hota

ये मसैल-ए-तसव्वुफ़ ये तेरा बयान ग़ालिब
तुझे हम वली समझते जो ना बड़ा खवर होता

Hoga Koi Aisa Bhi Ke Ghalib Ko Na Jaane
Shayar Toh Woh Accha Hai Par Badnaam Bahut Hai

होगा कोई ऐसा भी के ग़ालिब को ना जाने
शायर तो वो अच्छा है पर बदनाम बहुत है

Chand Tasvir-E-Butaan Chand Hasino Ke Khutut
Baad Marne Ke Mere Ghar Se Yeh Saaman Nikla

चंद तस्वीर-ए-बूतान चंद हसीनो के ख़ुतूत
बाद मरने के मेरे घर से ये सामान निकला

Read More

Mirza Ghalib Shayari

Bazicha-e-Atfal Hai Duniyan Mere Aage
Hota Hai Shab-o-Roz Tamasha Mere Aage

बाज़ीचा-ए-अतफल है दुनियां मेरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे

Meharban Ho Ke Bula Lo Mujhe Chahe Jis Waqt
Main Gaya Waqt Nahi Hoon Ke Phir Aa Bhi Na Sakun

मेहरबान हो के बुला लो मुझे चाहे जिस वक़्त
मैं गया वक़्त नहीं हूँ के फिर आ भी ना सकूँ

Dil-E-Nadaan Tujhe Hua Kya Hai
Aakhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai

दिल-ए-नादान तुझे हुआ क्या है
आखिर इस दर्द की दवा क्या है

Koi Ummeed Bar Nahin Aati
Koi Surat Nazar Nahin Aati

कोई उम्मीद बर नहीं आती
कोई सूरत नज़र नहीं आती

Aashiq Hoon Par Mashooq Farebi Hai Mera Kaam
Majnu Ko Bura Kehti Hai Laila Mere Aage

आशिक़ हूँ पर माशूक़ फरेबी है मेरा काम
मजनू को बुरा कहती है लैला मेरे आगे

Jaate Huye Kehte Ho Qayamat Ko Milenge
Kya Khoob Qayamat Ka Hai Goya Koi Din Aurr

जाते हुए कहते हो क़यामत को मिलेंगे
क्या खूब क़यामत का है गोया कोई दिन और


Ghalib Shayari On Zindagi

Kabaa Kis Muh Se Jaoge Ghalib
Sharam Tumko Magar Nahi Aati

काबा किस मुँह से जाओगे ग़ालिब
शरम तुमको मगर नहीं आती

Hain Aur Bhi Duniyan Mein
Sukhanwar Bahut Acche
Kehte Hain Ke Ghalib Ka Hai
Andaaz-E-Bayaan Aurr

हैं और भी दुनिया में
सुख़नवर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ग़ालिब का है
अंदाज़-ए-बयाँ और

Yeh Na Thi Hamari Qismat
Ke Visaal-e-Yaar Hota
Agar Aur Jeete Rehte
Yahi Intezaar Hota

ये न थी हमारी क़िस्मत
कि विसाल-ए-यार होता
अगर और जीते रहते
यही इंतेज़ार होता

Tere Waade Pe Jiye Hum
Toh Yeh Jaan Jhooth Jaana
Ke Khushi Se Mar Na Jaate
Agar Aitbaar Hota

तेरे वादे पर जिये हम
तो यह जान झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर ना जाते
अगर एतबार होता

Hamko Malum Hai Zannat Ki Haqeeqat Lekin
Dil Ke Khush Rakhane Ke Ghalib Ye Khyaal Accha Hai

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़्याल अच्छा है

Har Ek Baat Pe Kehte Ho Tum
Ke Tu Kya Hai
Tum Hi Kaho Ke Yeh
Andaaz-e-Guftagu Kya Hai
Ragon Mein Daudte Firne Ke
Hum Nahi Kayal
Jab Aankh Hi Se Na Tapka
Toh Fir Lahu Kya Hai

हर एक बात पे कहते हो तुम
के तू क्या है
तुम ही कहो के ये
अंदाज़-ए-गुफ्तगू क्या है
रगों में दौड़ते फिरने के
हम नहीं कायल
जब आँख ही से ना टपका
तो फिर लहू क्या है


Ghalib Shayari On Love

Jala Hai Jisam Jahan Dil Bhi Jal Gaya Hoga
Kuredte Ho Joh Ab Raakh Justaju Kya Hai
Bana Hai Sheh Ka Musahib Fire Hai Itraata
Wagarna Shehar Mein Ghalib Ki Aabru Kya Hai

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है
बना है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता
वगर्ना शहर में ग़ालिब की आबरू क्या है

Ye Rashk Ki Wo Hota Hai Hamsukhan Humse
Warana Khuf-E-Bdamoji-E-Adu Kya Hai

ये रश्क है कि वो होता है हमसुख़न हमसे
वरना ख़ौफ़-ए-बदामोज़ी-ए-अदू क्या है

Ishq Ne Ghalib Nikamma Kar Diya
Warna Hum Bhi Aadmi The Kaam Ke

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ghalib Shayari On Love

Hope you love our collection of Ghalib Shayari On Love And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add new Ghalib Shayari here.

Mohabbat Mein Nahin Hai Farq
Jeene Aur Marne Ka
Usi Ko Dekh Kar Jeete Hain
Jis Qaafir Pe Dum Nikle

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़
जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं
जिस काफ़िर पे दम निकले

Hazaron Khwahishein Aisi
Ki Har Khwahish Pe Dum Nikle
Bahut Nikale Mere Armaan
Lekin Phir Bhi Kam Nikle

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी
कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान
लेकिन फिर भी कम निकले

Unke Dekhe Se Joh Aa Jaati Hai
Muh Par Raunak
Woh Samjhte Hain Ki Beemar Ka
Haal Accha Hai

उनके देखे से जो आ जाती है
मुँह पर रौनक
वो समझते हैं की बीमार का
हाल अच्छा है

Kitana Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Mein
Pooch Un Parindo Se Jinke Ghar Nahi Hote

कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते

Ishq Par Zorr Nahi Hai Yeh Woh Aatish Ghalib
Ki Lagaye Na Lage Aur Bujhaye Na Bujhe

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब
की लगाए ना लगे और बुझाए ना बुझे


Ghalib Shayari Rekhta

Esharat-E-Katara Hai Dariya Me Fana Ho Jana
Dard Ka Had Se Guzarana Hain Dawa Ho Jana

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना

Dil Se Teri Nigah Jigar Tak Utar Gayi
Dono Ko Ek Adaa Me Razamand Kar Gayi

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई

Aah Ko Chahaiye Ek Umar Asar Hote Tak
Kaun Jeeta Hai Tiri Zulfo Ke Sar Hone Tak

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक

Dard Minnat Kash-E-Dawa Na Hua
Main Na Accha Hua Na Bura Hua

दर्द मिन्नत काश-ए-दवा ना हुआ
मैं ना अच्छा हुआ ना बुरा हुआ

Woh Aaye Ghar Mein Hamare
Khuda Ki Qudrat Hai
Kabhi Hum Unko Kabhi
Apne Ghar Ko Dekhte Hain

वो आए घर में हमारे
खुदा की क़ुदरत हैं
कभी हम उनको कभी
अपने घर को देखते हैं

Nikalana Khuld Se Adam Ka Sunate Aaye Hai Lekin
Bahut Be-Aabaru Ho Kar Kire Kunche Se Ham Nikale

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

Na Tha Kuch Toh Khuda Tha
Kuch Na Hota Toh Khud Hota
Duboya Mujhko Hone Ne
Na Hota Main Toh Kya Hota

ना था कुछ तो ख़ुदा था
कुछ ना होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझको होने ने
ना होता मैं तो क्या होता

Kaha May-Khane Ka Darwaza Ghalib Aur Kaha Vayiz
Par Itana Janate Hain Kal Wo Jata Tha Ki Ham Nikale

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ग़ालिब और कहाँ वाइज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

Bana Kar Faqeeron Ka Hum Bhes Ghalib
Tamasha-E-Ahl-E-karam Dekhte Hain

बना कर फ़क़ीरों का हम भेस ग़ालिब
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते हैं

Mirza Ghalib Shayari on Life In Hindi

Ghalib Bura Na Maan Joh Waaiz Bura Kahe
Aisa Bhi Koi Hai Ki Sab Accha Kahe Jise

ग़ालिब बुरा ना मान जो वाइज़ बुरा कहे
ऐसा भी कोई है की सब अच्छा कहे जिसे

Tum Salamat Raho Hazaar Baras
Har Baras Ke Din Ho Pachaas Hazaar

तुम सलामत रहो हज़ार बरस
हर बरस के दिन हो पचास हज़ार

Rone Se Aur Ishq Mein Bebaak Ho Gaye
Dhoye Gaye Hum Itne Ke Bas Paak Ho Gaye

रोने से और इश्क़ में बेबाक हो गए
धोए गए हम इतने के बस पास हो गए

Read More

Ghalib Shayari In Hindi

मिर्ज़ा ग़ालिब के ये कतात आज भी उतने ही ताज़ा लगते हैं जितने के उस वक़्त में होंगे। मिर्ज़ा ग़ालिब के शेर समझने में जितने आसान थे उतने ही मुश्किल भी थे हमने यहाँ आपको मिर्ज़ा ग़ालिब की कुछ हिंदी शायरी सुनाई है आशा करते हैं आपको Ghalib Shayari In Hindi ज़रूर पसंद आएगी।

Dard Jab Dil Mein Ho Toh Dawa Kijiye
Dil Hi Jab Dard Ho Toh Kya Kijiye

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए

Main Bhi Muh Mein Zabaan Rakhta Hoon
Kaash Pucho Ki Mudda Kya Hai

मैं भी मुँह में जुबां रखता हूँ
काश पूछो की मुद्दा क्या है

Ishq Mujhko Nahin Vehshat Hi Sahi
Meri Vehshat Teri Shohrat Hi Sahi

इश्क़ मुझको नहीं वेह्शत ही सही
मेरी वेह्शत तेरी शोहरत ही सही

Bak Raha Hoon Junoon Mein Kya Kya Kuch
Kuch Na Samjhe Khuda Kare Koi

बक रहा हूँ जूनून में क्या क्या कुछ
कुछ ना समझे खुदा करे कोई

Aa Hi Jaata Woh Raah Par Ghalib
Kai Din Aur Bhi Jiye Hote

आ ही जाता वो राह पर ग़ालिब
कई दिन और भी जिए होते

Jaan Tum Par Nisaar Karta Hoon
Main Nahin Jaanta Dua Kya Hai

जान तुम पर निसार करता हूँ
मैं नहीं जानता दुआ क्या है

Koi Virani Si Virani Hai
Dasht Ko Dekh Ke Ghar Yaad Aaya

कोई वीरानी सी वीरानी है
दश्त को देख के घर याद आया

Ghalib Chhuti Sharab Par Ab Bhi Kabhi Kabhi
Peeta Hoon Roz-E-Abr Aur Shab-E-Mehtab Mein

ग़ालिब छूटी शराब पर अब भी कभी कभी
पीता हूँ रोज़-ए-अब्र और शब्-ए-मेहताब में

Mirza Ghalib Love Shayari In Hindi 2 Lines

Qasid Ke Aate Aate Khat Ik Aur Likh Rakhun
Main Jaanta Hoon Joh Woh Likhenge Jawab Mein

क़सीद के आते आते खत इक और लिख रखूं
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

Hatho Ki Lakiron Pe Mat Ja Ae Ghalib
Naseeb Unke Bhi Hote Hain Jinke Hath Nahi Hote

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते

Vaiz Teri Duwaon Mein Asar Ho To Masjid Ko Hilake Dekh
Nahi To Do Ghoont Pee Aur Masjid Hilata Dekh

वाइज़ तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिलाके देख
नहीं तो दो घूंट पी और मस्जिद को हिलता देख

Nazar Lage Na Kahi Uske Dast-O-Baju Ko
Yeh Log Kyun Mere Zakhm-E-Jigar Ko Dekhate Hai

नज़र लगे ना कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्म-इ-जिगर को देखते हैं

Rahi Na Takat-E-Guftaar Aur Agar Ho Bhi
To Kis Ummeed Pe Kahiye Ke Aarzoo Kya Hai

रही ना ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उम्मीद पे कहिये के आरज़ू क्या है

Rekhte Ke Tum Hi Ustaad Nahi Ho Ghalib
Kehte Hain Agale Zamaane Mein Koi Meer Bhi Tha

रेख़्ते के तुम्हीं उस्ताद नहीं हो ग़ालिब
कहते हैं अगले ज़माने में कोई मीर भी था

Koi Mere Dil Se Puchhe Tere Teer-E-Neem-Kash Ko
Yeh Khalish Kaha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता

Galib Ki Shayari Whatsapp Status

Tum Na Aaye To Kya Sahar Na Huyi
Haan Magar Chain Se Basar Na Huyi
Mera Nala Suna Zamane Ne
Ek Tum Ho Jise Khabar Na Huyi

तुम ना आए तो क्या सहर ना हुई
हाँ मगर चैन से बसर ना हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने
एक तुम हो जिसे ख़बर ना हुई

Hua Jab Gham Se Yun Behish
To Gham Kya Sar Ke Katane Ka
Na Hota Gar Judaa Tan Se
To Jahanu Par Dhara Hota

हुआ जब गम से यूँ बेहिश
तो गम क्या सर के कटने का
ना होता गर जुदा तन से
तो जहानु पर धरा होता

Woh Cheez Jiske Liye Hamko Ho Bahisht Azeez
Siwaye Bada-E-Gulfaam-E-Mushkabu Kya Hai

वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है

Yeh Hum Jo Hizr Mein Deewaar-O-Dar Ko dekhate Hain
Kabhi Saba Ko Kabhi Namaabar Ko Dekhate Hai

ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं
कभी सबा को कभी नामाबर को देखते हैं

Tere Zawahire Tarfe Kal Ko Kya Dekh
Hum Auze Tale Laal-O-Guhar Ko Dekhate Hai

तेरे ज़वाहिरे तर्फ़े कुल को क्या देखें
हम औजे तले लाल-ओ-गुहर को देखते हैं

Gulzar Shayari >>

Also Read:

Hope you love our collection of Mirza Ghalib Shayari In Hindi And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add new Ghalib Shayari here.

1 thought on “Best [65+] Ghalib Shayari | Mirza Ghalib Shayari”

  1. Hello! I just would like to give a huge thumbs up for the great info you have here on this post. I will be coming back to your blog for more soon.

Comments are closed.