Best 100+ Gulzar Shayari | गुलज़ार शायरी

Gulzar ShayariGulzar is a Lyricist, poet, author, screenwriter, and film director.  Here we have the best collection of Gulzar Shayari. These Gulzar Shayari In Hindi are really Heart Touching. This article includes Mohabbat Gulzar Shayari, Gulzar Ki Shayari, Heart Touching Gulzar Shayari, Gulzar Quotes Gulzar Shayari On Life, Gulzar Shayari Images etc.

Here you can find some Good Quality Gulzar Shayari with Images that you can easily download and share with your Social Media, These Gulzar Ishq Shayari will definitely attract your Crush, Husban/Wife, Girlfriend/Boyfriend and Friends and Family.

Hope you love our collection of Gulzar Shayari And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add new Gulzar Quotes here.

Gulzar Shayari Images

Download

Gulzar Shayari In Hindi

Gulon Ko Sunna Zara Tum Sadaein Bheji Hain
Gulon Ke Haath Bahut Si Duaein Bheji Hain
Jo Aaftab Kabhi Bhi Guroob Hota Nahi
Jo Sirf Dil Hai Usi Ki Shoaein Bheji Hain

गुलों को सुनना ज़रा तुम सदाएं भेजीं हैं
गुलों के हाथ बहुत सी दुआएं भेजीं हैं
जो आफ़ताब भी ग़ुरूब होता नहीं
जो सिर्फ दिल है उसी की शोआए भेजीं हैं


Aaj Agar Bhar Aayi Hain Boondhein Baras Jaayengi
Kal Kya Pata Inke Liye Aankhein Taras Jaayengi
Jaane Kab Gum Hua, Kahan Khoya
Ek Ansun Chhupa Ke Rakha Tha

आज अगर भर आयी हैं बूंदें बरस जाएंगी
कल क्या पता इनके लिए आँखें तरस जाएंगी
जाने कब गुम हुआ कहाँ खोया
एक आंसू छुपा के रखा था


Saare Parinde Uske Ho Gaye
Pairon Mein Mere Zameen Bhi Nahi
Uska Sitaron Mein Ghar Hai Ek
Mera To Pinjre Ka Naseeb Bhi Nahi

सारे परिंदे उसके हो गए
पैरों में मेरे ज़मीन भी नहीं
उसका सितारों में घर है एक
मेरा तो पिंजरे का नसीब भी नहीं


Patjhad Mein Kuch Patton Ke Girne Ki Aahat
Kaanon Mein Ek Baar Pehan Ke Lautayi Thi
Patjhad Ki Woh Shaakh Abhi Tak Kaanp Rahi
Woh Shaakh Gira Do Mera Woh Saaman Lauta Do

पतझड़ में कुछ पत्तों के गिरने की आहाट
कानो में एक बार पहन के लौटाई थी
पतझड़ की वो शाख अभी तक काँप रही
वो शाख गिरा दो मेरा वो सामान लौटा दो


Lautne Ka Khyal Bhi Aaye
To Bas Chale Aana
Intjaar Aaj Bhi Badi
Besbri Se Hai Tumhara

लौटने का ख्याल भी आए
तो बस चले आना
इन्तजार आज भी बड़ी
बेसबरी से है तुम्हारा


116 Chaand Ki Raatein 1 Tumhare Kandhe Qaatil
Geeli Mehndi Ki Khushbu Jhoothmooth Ke Shikwe Kuch
Jhoothmooth Ke Waade Bhi Sab Yaad Kara Do
Sab Bhijwa Do Mera Woh Saaman Lauta Do

116 चाँद की रातें 1 तुम्हारे काँधें क़ातिल
गीली मेहँदी की खुशबु झूठमूठ के शिकवे कुछ
झूठमूठ के वादे भी सब याद करा दो
सब भिजवा दो मेरा वो सामान लौटा दो


Woh Jo Hai Woh Bahut Khoob Hai
Main Jo Hoon Main To Kuch Bhi Nahi
Uski Berukhi Mein Bhi Kya Adaa Hai
Meri To Mohabbat Bhi Mohabbat Nahi

वो जो है वो बहुत खूब है
मैं जो हूँ मैं तो कुछ भी नहीं
उसकी बेरुखी में भी क्या अदा है
मेरी तो मोहब्बत भी मोहब्बत नहीं


Likha Nahi Jo Qismat Mein
Uski Chahat Kya Karna
Yeh To Ek Din Hona Tha
Hijr Pe Hairat Kya Karna

लिखा नहीं जो क़िस्मत में
उसकी चाहत क्या करना
ये तो एक दिन होना था
हिज्र पे हैरत क्या करना


Gulzar Shayari Love

Aaj Bhi Naa Aaye Aansun Aaj Bhi Bheegi Naina
Aaj Bhi Yeh Kori Raina Kori Laut Jaayegi
Khaali Haath Shaam Aayi Hai Khaali Haath Jaayegi

आज भी ना आए आंसूं आज भी भीगी नैना
आज भी ये कोरी रैना कोरी लौट जाएगी
खाली हाथ शाम आयी है खाली हाथ जाएगी


Raat Ki Syahi Koi Aaye To Mitaye Naa
Aaj Naa Mitaye Toh Yeh Kal Bhi Laut Aayegi
Khaali Haath Shaam Aayi Hai Khaali Haath Jaayegi

रात की स्याही कोई आए तो मिटाये ना
आज ना मिटाये तो ये कल भी लौट आएगी
खाली हाथ शाम आयी है खाली हाथ जाएगी


Dil Khaali Khaali Bartan Hain
Aur Raat Hai Jaisa Andha Kuan
In Sooni Andheri Aakhon Mein
Aansu Ki Jagah Aata Hai Dhuan

दिल खाली खाली बर्तन है
और रात है जैसा अँधा कुआँ
इन सूनी अँधेरी आँखों में
आंसू की जगह आता है धुआं


In Umar Se Lambi Sadakon Ko
Manzil Pe Pahunchate Dekha Nahi
Bas Daudti Firti Rehti Hain
Hamne To Theharte Dekha Nahi

इन उम्र से लम्बी सड़कों को
मंज़िल पे पहुँचते देखा नहीं
बस दौड़ती फिरती रहती है
हमने तो ठहरते देखा नहीं


Jaadon Ki Naram Dhoop Aaye
Aangan Mein Let Kar
Aankhon Pe Kheench Kar Tere
Aanchal Ke Saayein Ko
Aundhe Pade Rahe Tabhi
Karwat Liye Huye
Dil Dhoondhta Hai Fir Wahi
Fursat Ke Raat Din

जाड़ों की नरम धुप आयी
आँगन में लेट कर
आँखों पे खींच कर तेरे
आँचल के सायें को
औंधे पड़े रहे तभी
करवट लिए हुए
दिल ढूंढता है फिर वही
फुर्सत के रात दिन


Gulzar Shayari In Hindi

Download

Duniyan-Daari Ka Hunar
Kisne Kitna Dekha Hai
Tum Kitaab Se Seekhe Ho
Hamne Waqt Se Seekha Hai

दुनियां दारी का हुनर
किसने कितना देखा है
तुम किताब से सीखे हो
हमने वक़्त से सीखा है


Samandar Samandar Hote Hain
Nadiyan Nadiyan Hoti Hain
Sirf Bura Bura Nahi Hota
Acchon Mein Bhi Kamiyan Hoti Hain

समंदर समंदर होते हैं
नदियां नदियां होती हैं
सिर्फ बुरा बुरा नहीं होता
अच्छों में भी कमियां होती हैं


Bematlab Ki Baatein Hain
Aisa Thodi Hota Hai
Kaun Kisi Pe Marta Hai
Kaun Kisi Ka Hota Hai

बेमतलब की बातें हैं
ऐसा थोड़ी होता है
कौन किसी पे मरता है
कौन किसी का होता है


Gulzar Shayari On Life

Kabhi Kabhi Khud Par Hi Ilzaam Lagaye Hain
Kabhi Zamaane Bhar Mein Tauheen Hoti Hai
Yun To Ab Tak Qismat Mein Andhere Hi Rahe
Koi Savera Laayega Tasqeen Hoti Hai

कभी कभी खुद पर ही इलज़ाम लगाए हैं
कभी ज़माने भर में तौहीन होती है
यूँ तो अब तक क़िस्मत में अँधेरे ही रहे
कोई सवेरा लाएगा तस्कीन होती है


Guzar Rahe Hain Umar Ke Us Pehar Se
Khwahishein Jahan Zara Rangeen Hoti Hain
Shararaton Ke Baad Wala Safar Hai Yeh
Jahan Galtiyan Bhi Sangeen Hoti Hain

गुज़र रहे हैं उम्र के उस पहर से
ख्वाहिशें जहाँ ज़रा रंगीन होती हैं
शरारतों के बाद वाला सफर है ये
जहाँ गलतियां भी संगीन होती हैं


Usne Rishta Nibhaya Gairon Ki Tarah
Humne Us Gair Ko Apna Samjha
Waar Kiye Usne Dil Pe Kayi Hazaar
Humne Uska Har Sitam Apna Samjha

उसने रिश्ता निभाया गैरों की तरह
हमने उस गैर को अपना समझा
वार किये उसने दिल पे कई हज़ार
हमने उसका हर सितम अपना समझा


Woh Ek Muqammal Gazal Hai
Toota Hua Main Harf Hoon
Usme Bhari Nooraniyat
Aur Main Zaraa Kamzarf Hoon

वो एक मुक़म्मल ग़ज़ल है
टूटा हुआ मैं हर्फ़ हूँ
उसमे भरी नूरानीयत
और मैं ज़रा कमज़र्फ हूँ


Yaad Kiya Magar Yaad Aaya Nahi
Kuch Yun Zehan Se Tera Chehra Mita Diya
Khud Ko Tham Rakha Tha Khud Mein Hi Maine
Tere Baad Khud Ko Khud Mein Luta Diya

याद किया मगर याद आया नहीं
कुछ यूँ ज़हन से तेरा चेहरा मिटा दिया
खुद को थाम रखा था खुद में ही मैंने
तेरे बाद खुद को खुद में लुटा दिया


Ruke Ruke Se Qadam
Ruk Ke Baar Baar Chale
Karaar Le Ke Tere Darr Pe
Bekaraar Chale
Ruke Ruke Se Qadam
Ruk Ke Baar Baar Chale

रुके रुके से क़दम
रुक के बार बार चले
करार ले के तेरे दर पे
बेकरार चले
रुके रुके से क़दम
रुक के बार बार चले


Ishq Adhoora Reh Jaaye To
Khud Par Naaz Karna
Kehte Hain Sacchi Mohabbat
Muqammal Nahi Hoti

इश्क़ अधूरा रह जाए तो
खुद पर नाज़ करना
कहते हैं सच्ची मोहब्बत
मुक़म्मल नहीं होती


Gulzar Shayari Hindi

Kuch Pal Ki Khushi Dekar
Zindagi Rulati Kyon Hai
Jo Lakeeron Mein Nahi Hote
Qismat Unhi Se Milati Kyon Hai

कुछ पल की ख़ुशी देकर
ज़िन्दगी रुलाती क्यों है
जो लकीरों में नहीं होते
क़िस्मत उन्ही से मिलाती क्यों है


Charasazon Ka Hai Shukriya
Tajurba-e-ishq Theek Nahi
Dil Lagana To Accha Hai
Dil Dukhana Theek Nahi

चारासाज़ों का है शुक्रिया
तजुर्बा-ए-इश्क़ ठीक नहीं
दिल लगाना तो अच्छा है
दिल दुखाना ठीक नहीं


Woh Jo Tere Saath Hain Rehte
Haan Khuda Ke Bande Honge
Jinpar Teri Nazar Gire Woh
Haan Khuda Ke Bande Honge
Teri Khushbu Ko Tere
Gulaab Taraste Rehte Hain
Jinko Tu Khushbu Deta Hai
Haan Khuda Ke Bande Honge

वो जो तेरे साथ हैं रहते
हाँ खुदा के बंदे होंगे
जिनपर तेरी नज़र गिरे वो
हाँ खुदा के बंदे होंगे
तेरी खुशबु को तेरे
गुलाब तरसते रहते हैं
जिनको तू खुशबु देता है
हाँ खुदा के बंदे होंगे


Bachpan Ka Shor Sukoon Deta Tha
Aaj Ki Khamoshi Khane Ko Daudti Hai

बचपन का शोर सुकून देता था
आज की ख़ामोशी खाने को दौड़ती है


Bura Accha Hai, Accha Accha Nahi
Jhootha Saccha Hai, Saccha Saccha Nahi
Dil Dekho Mera Chehra Accha Nahi
Zuban Se Kaho, Ishara Accha Nahi

बुरा अच्छा है, अच्छा अच्छा नहीं
झूठा सच्चा है, सच्चा सच्चा नहीं
दिल देखो मेरा चेहरा अच्छा नहीं
ज़ुबान से कहो, इशारा अच्छा नहीं


Padhna Tumhein Nahi Aata Kitaab Kya Kare
Aankhein Tum Bhool Gaye Hijaab Kya Kare

पढ़ना तुम्हें नहीं आता किताब क्या करे
आँखें तुम भूल गए हिजाब क्या करे


Kuch Dikhayi Nahi Deta Andhere Ke Siwa
Sab Ujad Gaya Ek Basere Ke Siwa
Jala Di Maine Tamaan Ghar Ki Cheezein
Ek Naam Likha Tha “Maa” Us Kagaz Ke Siwa

कुछ दिखाई नहीं देता अँधेरे के सिवा
सब उजड़ गया एक बसेरे के सिवा
जला दी मैंने तमाम घर की चीज़ें
एक नाम लिखा था “माँ” उस कागज़ के सिवा


Gulzar Shayari In Hindi 2 Lines

Guzra Waqt Yaad Karke Rona Nahi Tum
Guzra Isliye Ke Waqt Accha Aane Wala Hai

गुज़रा वक़्त याद करके रोना नहीं तुम
गुज़रा इसलिए के वक़्त अच्छा आने वाला है


Koi Naam Naa Le Mera Uske Saath
Zameen Aasman Ko Alag Hi Rehne Do

कोई नाम ना ले मेरा उसके साथ
ज़मीन आसमान को अलग ही रहने दो


Kabhi Jugnu Kabhi Sapno Sa Lagta Hai
Woh Ek Na Jaane Kitno Sa Lagta Hai
Andhon Ko Bhi Usme Ek Raushni Dikhti Hai
Gairon Ko Bhi Woh Apno Sa Lagta Hai

कभी जुगनू कभी सपनो सा लगता है
वो एक ना जाने कितनो सा लगता है
अंधों को भी उसमे एक रौशनी दिखती है
गैरों को भी वो अपनों सा लगता है


Subah Naa Aayi Kayi Baar Neend Se Jaage
Thi Ek Raat Ki Yeh Zindagi Guzaar Chale
Uthaye Firte The Ehsaan Dil Ka Seene Par
Le Tere Kadamon Mein Yeh Karz Bhi Utaar Chale

सुबह ना आयी कई बार नींद से जागे
थी एक रात की ये ज़िन्दगी गुज़ार चले
उठाए फिरते थे एहसान दिल का सीने पर
ले तेरे क़दमों में ये क़र्ज़ भी उतार चले


Ek Khwaab Ne Aankhein Kholi Hai
Kya Mod Aaya Hai Kahaani Mein
Woh Bheeg Rahi Hai Baarish Mein
Aur Aag Lagi Hai Paani Mein

एक ख्वाब ने आँखें खोली है
क्या मोड़ आया है कहानी में
वो भीग रही है बारिश में
और आग लगी है पानी में


Pehle To Begaani Nagri Mein
Hum Ko Kisi Ne Poochha Na Tha
Saara Shehar Jab Maan Gaya Toh
Lagta Hai Kyun Koi Rutha Na Tha

पहले तो बेगानी नगरी में
हम को किसी ने पुछा ना था
सारा शहर जब मान गया तो
लगता है क्यों कोई रूठा ना था


Kab Tak Hosh Sambhale Koi
Hosh Ude To Udd Jaane Do
Dil Kab Seedhi Raah Chala Hai
Raah Mude To Mud Jaane Do

कब तक होश संभाले कोई
होश उड़े तो उड़ जाने दो
दिल कब सीधी राह चला है
राह मुड़े तो मुड़ जाने दो


Gulzar Shayari In Hindi For Love

Heer Heer Na Akho Adiyo
Main Te Sahiban Hoi
Ghodi Leke Aave Le Jaaye
Mainu Le Jaaye Mirza Koi
Le Jaaye Mirza Koi

हीर हीर ना आखो अड़ियो
मैं ते साहिबा होई
घोड़ी लेके आवे ले जाए
मैनु ले जाए मिर्ज़ा कोई
ले जाए मिर्ज़ा कोई


Yeh Marz Mohabbat Ka Bada Meetha Hai
Is Marz Ka Hum Ilaaj Kyon Karein
Tum Hamare Ho Kaafi Hai Yeh
Phir Ishq Ki Hum Talaash Kyon Karein

ये मर्ज़ मोहब्बत का बड़ा मीठा है
इस मर्ज़ का हम इलाज़ क्यों करें
तुम हमारे हो काफी है ये
फिर इश्क़ की हम तलाश क्यों करें


Khuda Kuch Gunahon Ki Maafi Nahi Deta
Hamne Aaj Khud Ko Gunahgaar Kar Diya
Purani Galtiyan Bhoolne Ki Koshish Thi
Naye Ishq Ne Aur Barbaad Kar Diya

खुदा कुछ गुनाहों की माफ़ी नहीं देता
हमने आज खुद को गुनहगार कर दिया
पुरानी गलतियां भूलने की कोशिश थी
नए इश्क़ ने और बर्बाद कर दिया


Kangan Ke Nishan Gaye Nahi Abhi
Haathon Se Jinhein Chhupa Rahi Ho
Mere Bina To Ek Pal Gawara Na Tha
Aaj Akele Kahan Jaa Rahi Ho

कंगन के निशान गए नहीं अभी
हाथों से जिन्हें छुपा रही हो
मेरे बिना तो एक पल गवारा ना था
आज अकेले कहाँ जा रही हो


Halke Halke Pardo Mein
Muskurana Achha Lagta Hai
Roshni Jo Deta Ho Toh
Dil Jalana Achha Lagta Hai

हलके हलके पर्दो में
मुस्कुराना अच्छा लगता है
रौशनी जो देता हो तो
दिल जलाना अच्छा लगता है


Shaam Hai Toh Shaam Sahi
Raat Na Hone Dena
Aas Ki Saans Chalti Rahe
Maat Na Hone Dena
Jin Aankhon Mein Neend Nahin Hai
Unn Aankhon Mein Khwaab Tha Koi
Khwaab Woh Khwaab Tum Khone Na Dena

शाम है तो शाम सही
रात ना होने देना
आस की सांस चलती रहे
मात ना होने देना
जिन आँखों में नींद नहीं है
उन आँखों में ख्वाब था कोई
ख्वाब वो ख्वाब तुम खोने ना देना


Marne Se Mujhe Koi Dar To Nahin
Haan Tere Bin Mushqil Hogi
Jeena Bhi Pade Toh Bhi Mujhko
Haan Tere Bin Mushqil Hogi

मरने से मुझे कोई डर तो नहीं
हाँ तेरे बिन मुश्किल होगी
जीना भी पड़े तो भी मुझको
हाँ तेरे बिन मुश्किल होगी


Jhuki Hui Nigaah Mein Kahin Mera Khayaal Tha
Dabi Dabi Hansi Mein Ik Hasin Sa Gulaal Tha
Main Sochta Tha Mera Naam Gunaguna Rahi Hai Woh
Na Jaane Kyon Laga Mujhe Ke Muskura Rahi Hai Woh

झुकी हुई निगाह में कहीं मेरा ख्याल था
दबी दबी हंसी में इक हसीन सा गुलाल था
मैं सोचता था मेरा नाम गुनगुना रही है वो
ना जाने क्यों लगा मुझे के मुस्कुरा रही है वो


Do Sondhe Sondhe Se Jisam Jis Waqt
Ik Mutthi Mein So Rahe The
Labon Ki Madhyam Taweel Sarghoshiyon Mein
Saansein Ulajh Gayi Thi
Undhein Huye Saahilon Pe Jaisi Kahi Door
Thanda Saawan Baras Raha Tha
Bas Ek Rooh Jaagti Thi
Bata To Us Waqt Main Kahan Tha
Bata To Us Waqt Tu Kahan Thi

दो सोंधे सोंधे से जिस्म जिस वक़्त
इक मुट्ठी में सो रहे थे
लबों की मध्यम तवील सरगोशियों में
सांसें उलझ गयी थी
ऊंधे हुए साहिलों पे जैसी कही दूर
ठंडा सावन बरस रहा था
बस एक रूह जागती थी
बता तो उस वक़्त मैं कहाँ था
बता तो उस वक़्त तू कहाँ थी


Manzil Bhi Yahan Sabko Nahi Milti
Safar Har Kisi Ke Acche Nahi Hote
Raaston Mein Aksar Chhod Jaate Hain Log
Milne Wale Sabhi Acche Nahi Hote

मंज़िल भी यहाँ सबको नहीं मिलती
सफर हर किसी के अच्छे नहीं होते
रास्तों में अक्सर छोड़ जाते हैं लोग
मिलने वाले सभी अच्छे नहीं होते


Kahan Chhupa Di Hai Raat Toone
Kahan Chhupaye Hain Toote Apne
Gulaabi Haathon Ke Thande Phaaye
Kahan Hain Tere Labon Ke Chehre
Kahan Tu Aaj Tu Kahan Hai
Yeh Mere Bistar Pe Kaisa Sannata So Raha Hai

कहाँ छुपा दी है रात तूने
कहाँ छुपाए हैं टूटे अपने
गुलाबी हाथों के ठन्डे फाये
कहाँ है तेरे लबों के चेहरे
कहाँ तू आज तू कहाँ है
ये मेरे बिस्तर पे कैसा सन्नाटा सो रहा है


Gulzar Sad Shayari

Beete Rishtey Talaash Karti Hai
Khushbu Kunche Talaash Karti Hai
Ek Umeed Baar Baar Aakar
Apne Tukde Talaash Karti Hai

बीते रिश्ते तलाश करती है
खुशबु कूंचे तलाश करती है
एक उम्मीद बार बार आकर
अपने टुकड़े तलाश करती है


Khol Kar Baahon Ke Do Uljhe Huye Misre
Haule Se Choom Ke Do Neend Se Jalki Palkein
Honth Se Lipti Huyi Zulaf Ko Minnat Se Hatakar
Kaan Par Dheere Se Rakh Dunga Jo Awaaz Ke Do Honth
Main Jagaunga Tujhe Naam Se “Sona”
Aur Tum Jab Dheere Se Palkein Uthaogi Na
Uss Dum Door Thehre Huye Paani Pe Phir Kholegi Aankhein
Subah Ho Jaayegi Tab Subah Zameen Par

खोल कर बाहों के दो उलझे हुए मिसरे
हौले से चूम के दो नींद से पलकें
होंठ से लिपटी हुई ज़ुल्फ़ को मिन्नत से हटाकर
कान पर धीरे से रख दूंगा जो आवाज़ के दो होंठ
मैं जगाउंगा तुझे नाम से “सोना”
और तुम जब धीरे से पलकें उठाओगी ना
उस दम दूर ठहरे हुए पानी पे फिर खोलेगी आँखें
सुबह हो जाएगी तब सुबह ज़मीन पर


Jaane Kya Soch Kar Nahi Guzaraa
Ek Pal Raat Bhar Nahi Guzaraa

जाने क्या सोच कर नहीं गुज़रा
एक पल रात भर नहीं गुज़रा


Har Baat Pe Hairan Hai
Moorakh Hai Yeh Naadan Hai
Main Dil Se Pareshan Hoon
Dil Mujhe Se Pareshan Hai

हर बात पे हैरान है
मूरख है ये नादान है
मैं दिल से परेशान हूँ
दिल मुझ से परेशान है


Logon Ke Ghar Mein Rehta Hoon
Kab Apna Koi Ghar Hoga
Deewaron Ki Chinta Rehti Hai
Deewar Mein Kab Koi Dar Hoga
Logon Ke Ghar Mein Rehta Hoon

लोगों के घर में रहता हूँ
कब अपना कोई घर होगा
दीवारों की चिंता रहती है
दीवार में कब कोई दर होगा
लोगों के घर में रहता हूँ


Likhe Likhe Se Lagte Ho Gazal Gazal Se Tum
Khushi Tumhi Se Lagti Hai Chehal Pehal Se Tum
Khayal Rakho Hadd-e-ishq Paar Nahi Karna
Nazar Buri Hai Logon Ki Zara Sambhal Ke Tum

लिखे लिखे से लगते हो ग़ज़ल ग़ज़ल से तुम
ख़ुशी तुम्ही से लगती है चहल पहल से तुम
ख्याल रखो हद-ए-इश्क़ पार नहीं करना
नज़र बुरी है लोगों की ज़रा संभल के तुम


Mere Jaane Se Bhala Kya Ho Jaayega
Main Gaya Aur Kisi Ka Aana Ho Jaayega
Ho Jaane Dena Phir Jo Hoga Tere Saath
Tujhe Bhi Bewafayi Ka Andaza Ho Jaayega

मेरे जाने से भला क्या हो जाएगा
मैं गया और किसी का आना हो जाएगा
हो जाने देना फिर जो होगा तेरे साथ
तुझे भी बेवफाई का अंदाज़ा हो जाएगा


Gulzari Ki Shayari

Bekaar Hua Mera Mitna Teri Mohabbat Mein
Mujhe Khabar Na Thi Tune Ishq Ko Dhandha Banaya Hai

बेकार हुआ मेरा मिटना तेरी मोहब्बत में
मुझे खबर ना थी तूने इश्क़ को धंधा बनाया है


Ab To Khaali Deewaron Se Darr Nahi Lagta
Par Tere Bina Ye Ghar Bhi Ghar Nahi Lagta

अब तो खाली दीवारों से डर नहीं लगता
पर तेरे बिना ये घर भी घर नहीं लगता


Kabool Nahi Zamaane Ko Ishq
Jeena Sikhaye Deewano Ko Ishq
Mohabbat Ibaadat Mein Kitna Hai Fark
Khuda Ko Bhi Kitna Pyara Hai Ishq

कबूल नहीं ज़माने को इश्क़
जीना सिखाए दीवानों को इश्क़
मोहब्बत इबादत में कितना है फ़र्क
खुदा को भी कितना प्यारा है इश्क़


Yeh Batao Mujhse Baatein Kab Karoge
Jal Raha Hoon Barsaatein Kab Karoge
Door Se Tumhein Kab Tak Dekhun Main
Mujhse Woh Wali Mulaqatein Kab Karoge

ये बताओ मुझसे बातें कब करोगे
जल रहा हूँ बरसातें कब करोगे
दूर से तुम्हें कब तक देखूं मैं
मुझसे वो वाली मुलाक़ातें कब करोगे


Main Har Raat Ki Khwahishon Ko
Khud Se Pehle Sula Deta Hoon
Magar Roz Subah Ye Mujhse Pehle Jaag Jati Hain

मैं हर रात की ख्वाहिशों को
खुद से पहले सुला देता हूँ
मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है


Pehle Jaisi Ab Woh Baat Kahan
Tumse Waisi Mulaqaat Kahan
Uddti Rahi Dhool Yun Hi Galiyon Mein
Mere Shehar Mein Ab Woh Barsaat Kahan

पहले जैसी अब वो बात कहाँ
तुमसे वैसी मुलाक़ात कहाँ
उड़ती रही धुल यूँ ही गलियों में
मेरे शहर में अब वो बरसात कहाँ


Gulzar Sad Shayari In Hindi

Mila To Bahut Kuch Hain Is Zindagi Mein
Bas Hum Ginati Usi Ki Karate Hain Jo Hasil Na Ho Saka

मिला तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में
बस हम गिनती उसी की करते है जो हासिल ना हो सका


Aayina Dekh Kar Tasalli Huyi
Hamko Is Ghar Mein Janata Hain Koi

आईना देख कर तसल्ली हुई
हमको इस घर में जानता है कोई


Zindagi Yun Hi Basar Tanha
Kafila Sath Aur Safar Tanha

ज़िन्दगी यूँ ही बसर तनहा
काफिला साथ और सफर तनहा


Unki Na Thi Koi Khata
Hum Hi Galat Samjh Baithe
Woh Mohabbat Se Baat Karte The
Hum Mohabbat Samajh Baithe

उनकी ना थी कोई खता
हम ही गलत समझ बैठे
वो मोहब्बत से बात करते थे
हम मोहब्बत समझ बैठे


Mukammal Ishq Se Zyada To Charche
Adhoori Mohabbat Ke Hote Hain

मुकम्मल इश्क़ से ज़्यादा तो चर्चे
अधूरी मोहब्बत के होते हैं


Likhe The Kuch Geet Teri Yaadon Ke Sahare
Teri Fitrat Yaad Aate Hi Har Khat Jala Diya

लिखे थे कुछ गीत तेरी यादों के सहारे
तेरी फितरत याद आते ही हर खत जला दिया


Meri Aankhon Ko Tere Aane Ki Khwaish Aaj Bhi Hai
Tujhe Paane Ki Kasak Mere Dil Mein Aaj Bhi Hai
Jin Raaston Mein Mujhe Akela Chhod Gaya Tu
Un Raaston Mein Tere Saath Chalne Ki Hasrat Aaj Bhi Hai

मेरी आँखों को तेरे आने की ख्वाइश आज भी है
तुझे पाने की कसक मेरे दिल में आज भी है
जिन रास्तों में मुझे अकेला छोड़ गया तू
उन रास्तों में तेरे साथ चलने की हसरत आज भी है


Anjaam Ki Khabar To Meera Ko Bhi Thi
Baat To Sirf Mohabbat Nibhane Ki Thi

अंजाम की खबर तो मीरा को भी थी
बात तो सिर्फ मोहब्बत निभाने की थी


Pata Nahi Mujhe Haq Hai Ya Nahi Magar
Mujhe Tumhari Parwaha Karna Accha Lagta Hai

पता नहीं मुझे हक़ है या नहीं मगर
मुझे तुम्हारी परवाह करना अच्छा लगता है


Kabhi Tum Bhi Likha Karo Do Shabd Hamare Liye
Hamein Sirf Likhna Nahi Padhna Bhi Accha Lagta Hai

कभी तुम भी लिखा करो दो शब्द हमारे लिए
हमें सिर्फ लिखना नहीं पढ़ना भी अच्छा लगता है


Radha Si Woh Thi
Kanhan Sa Ishq Tha
Chahat Bhi Bahut Thi
Par Milna Qismat Mein Na Tha

राधा सी वो थी
कान्हा से इश्क़ था
चाहत भी बहुत थी
पर मिलना क़िस्मत में ना था


Jalne Walon Ki Dua Se Hi Saari Barkat Hai
Warna Apna Kehne Wale Toh Yaad Bhi Nahi Karte

जलने वालों की दुआ से ही सारी बरकत है
वरना अपना कहने वाले तो याद भी नहीं करते


Gulzar Sad Quotes In Hindi

Kahani Bas Itni Si Thi
Tumhari Humari Mohabbat Ki
Mausam Ki Tarah Tum Badal Gaye
Fasal Ki Tarah Hum Barbaad Ho Gaye

कहानी बस इतनी सी थी
तुम्हारी हमारी मोहब्बत की
मौसम की तरह तुम बदल गए
फसल की तरह हम बरबाद हो गए


Suna Hai Tere Shehar Mein Khilaune Mehnge Milte Hain
Soch Raha Hoon Yeh Qaafir Dil Bech Hi Doon

सुना है तेरे शहर में खिलौने महंगे मिलते हैं
सोच रहा हूँ ये काफिर दिल बेच ही दूँ


Mere Sawaalon Ka Jawaab Kya Hoga
Abhi To Main Hoon Mere Baad Kya Hoga
Har Din Ek Jaisa Nahi Hota
Raatein Guzaar Li Savere Kya Hoga

मेरे सवालों का जवाब क्या होगा
अभी तो मैं हूँ मेरे बाद क्या होगा
हर दिन एक जैसा नहीं होता
रातें गुज़ार ली सवेरे क्या होगा


गुलज़ार शायरी इन हिंदी लिरिक्स

gulzar love shayari,

Download

Heart Touching गुलजार की शायरी

Main Mera Hua Karta Tha Kuch Lamhon Pehle
Tujh Par Nazar Gayi Aur Main Paraya Ho Gaya

मैं मेंरा हुआ करता था कुछ लम्हों पहले
तुझ पर नज़र गयी और मैं पराया हो गया


Bichadne Par Takleef Toh Tumhein Bhi Hogi
Jhootha Hi Sahi Magar Ishq Toh Tha

बिछड़ने पर तकलीफ तो तुम्हें भी होगी
झूठा ही सही मगर इश्क़ तो था


Naseeb Mera Ki Main Udhar Gaya
Ishq Mein Thokar Lagi Aur Sudhar Gaya

नसीब मेरा की मैं उधर गया
इश्क़ में ठोकर लगी और सुधर गया


Aashiqon Ka Naam Badnaam Kar Gaya
Woh Jism Ke Liye Har Hadd Par Kar Gaya

आशिक़ों का नाम बदनाम कर गया
वो जिस्म के लिए हर हद पार कर गया


Marham Dene Wale Bhi Kamaal Kartein Hain
Zakham Dene Walon Se Dosti Rakhte Hain

मरहम देने वाले भी कमाल करते हैं
ज़ख़्म देने वालों से दोस्ती रखते हैं


Zaroorat Nahi Do Jahan Ki Mujhe
Mujhe Bas Tumhari Sadaa Chahiye
Dua Maine Ki Hai Inayat Bhi Hogi
Mujhe Bas Tumhari Wafaa Chahiye

ज़रुरत नहीं दो जहाँ की मुझे
मुझे बस तुम्हारी सदा चाहिए
दुआ मैंने की है इनायत भी होगी
मुझे बस तुम्हारी वफ़ा चाहिए


Aap Jis Par Aankh Band Karke Bharosa Karte Hain,
Aksar Wahi Aap Ki Aankhein Khol Jata Hain

आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं,
अक्सर वही आप की आँखें खोल जाता है


Kasam Tumko Meri Mere Banke Rehna
Zafaa Chahe Kar Lo Ijazat Hai Meri
Jo Khud Mujhme Mujhko Nahi Tum Miloge
Aji Fir Mohabbat Pe Laanat Hai Meri

कसम तुमको मेरी मेरे बनके रहना
ज़फ़ा चाहे कर लो इजाज़त है मेरी
जो खुद मुझमे मुझको नहीं तुम मिलोगे
अजी फिर मोहब्बत पे लानत है मेरी


Tere Dil Mein Koi Aur Hi Hai
Mere Dil Ne Yeh Saha Nahi
Teri Nazrein Mujhse Keh Gayi Hain
Ab Ishq Tu Mera Raha Nahi

तेरे दिल में कोई और ही है
मेरे दिल ने ये सहा नहीं
तेरी नज़रें मुझसे कह गयी हैं
अब इश्क़ तू मेरा रहा नहीं


Gulzar Sad Love Quotes In Hindi

Dekh Kar Aayina Jhuk Gayi Hai Nazar
Dil Jo Toda Mera Hai Yeh Uska Asar
Dekhna Khud Se Nafrat Bhi Hogi Tumhein
Jaise Tune Kiya Hoga Tera Hashar

देख कर आईना झुक गयी है नज़र
दिल जो तोड़ा मेरा है ये उसका असर
देखना खुद से नफरत भी होगी तुम्हें
जैसे तूने किया होगा तेरा हशर


Tohmatein Jo Lagi Mujhpar Mohabbat Aur Wafaon Mein
Naa Tu Mera Hua Yaara Na Ho Paya Hoon Tera Main
Haan Sab Khwaab Toote Hain Ke Toote Hai Sabhi Naatein
Nahi Aasan Mita Dena Woh Barsaatein Teri Yaadein

तोहमतें जो लगी मुझपर मोहब्बत और वफाओं में
ना तू मेरा हुआ यारा ना हो पाया हूँ तेरा मैं
हाँ सब ख्वाब टूटे हैं के टूटे हैं सभी नाते
नहीं आसान मिटा देना वो बरसातें तेरी यादें


Achhe Hote Hain Bure Log,
Achha Hone Ka Dikhawa Nahi Karte

अच्छे होते हैं बुरे लोग,
अच्छा होने का दिखावा नहीं करते


In Sookhe Pedon Ke Dil Bhi Gulzar Abhi Baaki Hai
Agaaz Hua Hai Rishton Ka Anjaam Abhi Baaki Hai
Ek Neemat Hai Zindagi Ise Sambhal Ke Rakhna
Is Safar Ki Aakhri Manzil Shamshan Abhi Baaki Hai

इन सूखे पेड़ों के दिल भी गुलज़ार अभी बाकी है
आगाज़ हुआ है रिश्तों का अंजाम अभी कभी है
एक नीमत है ज़िन्दगी इसे संभाल के रखना
इस सफर की आखरी मंज़िल शमशान अभी बाकी है


Gurbat Ki Baarish Aate Hi Barkat Ki Chhat Ban Jaaye
Har Mushkil Uske Dar Par Aake Salaam Karti Hai
Waqt Ko Badalna Uski Aadat Mein Shaamil Hai
Har Shaksh Ke Saath Duaein Maa Ki Rehti Hai

ग़ुरबत की बारिश आते ही बरकत की छत बन जाए
हर मुश्किल उसे दर पर आके सलाम करती है
वक़्त को बदलना उसकी आदत में शामिल है
हर शक्श के साथ दुआएं माँ की रहती हैं


Maykhane Se Poocha Aaj Itna Snnata Kyu Hai,
Bola Saahab Lahu Ka Dour Hai Sharab Kon Peeta Hai

मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है,
बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है


Jinka Milna Mukaddar Mein Likha Nahi Hota,
Unse Mohabbat Kasam Se Kamaal Ki Hoti Hai

जिनका मिलना मुकद्दर में लिखा नहीं होता,
उनसे मोहब्बत कसम से बा-कमाल होती है


Gulzar Love Shayari

Dhaya Khuda Ne Zulm Hum Dono Par,
Tumhen Husan Dekar Aur Mujhe Ishq Dekar

ढाया खुदा ने ज़ुल्म हम दोनों पर,
तुम्हें हुस्न देकर और मुझे इश्क़ देकर


Girti Huyi Baarish Aur
Baarish Mein Tum Ko Bahana Hai
Tumhare Labon Par Gire Jo Baarish Ki Boondhein
Use Labon Se Uthana Hai

गिरती हुई बारिश और
बारिश में तुम तो बहाना है
तुम्हारे लबों पर गिरे जो बारिश की बूँद
उसे लबों से उठाना है


Meri Zindagi Ke Hisse Ki Dhool Ho Tum
Jo Dil Mein Khile Woh Phool Ho Tum
Ab Mere Har Lamhein Mein Kabool Ho Tum

मेरी ज़िंदगी के हिस्से की धुल हो तुम
जो दिल में खिले वो फूल हो तुम
अब मेरे हर लम्हे में क़ुबूल हो तुम


Mere Labon Pe Bas Tera Naam Ho
Mohabbat Mein Aisa Apna Kaam Ho
Heer Ranjha Ki Misaale Log Bhool Jaaye
Apni Mohabbat Hi Itni Khaas Ho

मेरे लबों पे बस तेरा नाम हो
मोहब्बत में ऐसा अपना काम हो
हीर राँझा की मिसाले लोग भूल जाएँ
अपनी मोहब्बत ही इतनी खास हो


Aasman Mein Ched Kar Doon Ek Taare Ke Liye
Zindagi Aage Rakh Doon Saari Tumhare Liye
Aur Aapne Liye Main Kya Kahun
Hum Aapke Hain Aur Aap Hamare Liye

आसमान में छेद कर दूँ एक तारे के लिए
ज़िन्दगी आगे रख दूँ सारी तुम्हारे लिए
और आपके लिए मैं क्या कहूं
हम आपके हैं और आप हमारे लिए


Deewana Har Shakhs Ko Bana Deta Hai Ishq
Sair Jannat Ki Kara Deta Hai Ishq
Mareej Ho Agar Dil Ke To Kar Lo Ishq
Kyuki Dhadkana Dilo Ko Sikha Deta Hai Ishq

दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़
सैर जन्नत की करा देता है इश्क़
मरीज हो अगर दिल के तो कर लो इश्क़
क्योंकि धड़कना दिलों को सिखा देता है इश्क़


Milkar Likhenge Kahani Mohabbat Ki
Main Kaagaz Tum Kalam Bas Itna Saath Ho

मिलकर लिखेंगे कहानी मोहब्बत की,
मैं काग़ज़ तुम कलम बस इतना साथ हो


Gulzar Sad Shayari In Hindi Image

Jo Tu Mera Ho Gaya Ab Aur Kya Kahun
Mujhe Meri Duniyan Mera Rab Mil Gaya

जो तू मेरा हो गया अब और क्या कहूं,
मुझे मेरी दुनियां मेरा रब मिल गया


Toot Gaya Ek Taara Phir Aasman Se
Phir Kisi Aashiq Ka Dil Roya Hoga

टूट गया एक तारा फिर आसमान से,
फिर किसी आशिक़ का दिल रोया होगा


Maine Tumhara Haal Auron Se Suna Tha
Bichadne Par Roye Tum Bhi Bahut The

मैंने तुम्हारा हाल औरों से सुना था,
बिछड़ने पर रोए तुम भी बहुत थे


Kasoor Hai Mera Dil Lagaya Tumse
Tabah Hone Ko Raaste Aur Bhi The

कसूर है मेरा दिल लगाया तुमसे,
तबाह होने को रास्ते और भी थे


Chehron Se Hoti Hai Khoobsurati Janab
Dil Ki Is Duniyan Mein Aukaat Kuch Nahi

चेहरों से होती है खूबसूरती जनाब,
दिल की इस दुनिया में औकात कुछ नहीं


Khareed Leta Main Bhi Saari Mehngi Khushiyan
Bas Ghar ke Haalat Zid Karne Nahi Dete

ख़रीद लेता मैं भी सारी महंगी खुशियां,
बस घर के हालात मुझे ज़िद करने नहीं देते


Gulzar Shayari

Koi Thukra De To Hans Kar Jee Lena
Mohabbat Ki Duniyan Mein
Zabardasti Nahi Hoti

कोई ठुकरा दे तो हंस कर जी लेना
मोहब्बत की दुनियां में
ज़बरदस्ती नहीं होती


Zaroori Nahi Uska Bhi Dil Bhar Gaya Hoga
Ho Sakta Hai Use Koi Aur Mil Gaya Hoga

ज़रूरी नहीं उसका भी दिल भर गया होगा
हो सकता है उसे कोई और मिल गया होगा


Naya Shehar Bas
Kuch Dino Ke Liye Accha Hota Hai
Par Apna Ghar To Apna Ghar Hota Hai

नया शहर बस
कुछ दिनों के लिए अच्छा होता है
पर अपना घर तो अपना घर होता है


Main Ab Aahista Aahista Samjh Raha Hoon
Log Achanak Kyon Pankhe Se Latak Jaate Hain

मैं अब आहिस्ता आहिस्ता समझ रहा हूँ
लोग अचानक क्यों पंखे से लटक जाते हैं


Kal Dekha To Bahut Muskura Rahi Thi Woh
Shayad Nayi Mohabbat Se Khush Hai Woh

कल देखा तो बहुत मुस्कुरा रही थी वो
शायद नयी मोहब्बत से खुश है वो


Hum To Aaj Bhi Chahte Hain
Hamesha Ki Tarah Tujhko
Kaun Kehta Hai Ki Faaslon Ne
Hamari Mohabbat Ko Kam Kar Diya

हम तो आज भी चाहते हैं
हमेशा की तरह तुझको
कौन कहता है की फासलों ने
हमारी मोहब्बत को कम कर दिया


Hum Roz Udaas Hote Hain
Aur Raat Guzar Jaati Hai
Ek Din Raat Udaas Hogi
Aur Hum Guzar Jaayenge

हम रोज़ उदास होते हैं
और रात गुज़र जाती है
एक दिन रात उदास होगी
और हम गुज़र जाएंगे


Chhodna Chaho To Kamiyan Bahut Hai Mujhmein
Nibhana Chahon To Khoobiyan Bhi Kam Nahin

छोड़ना चाहो तो कमियां बहुत है मुझमें
निभाना चाहो तो खूबियां भी कम नहीं


Gulzar Sad Status 

Kareeb Se Hokar Jaane Wale
Aksar Naseeb Mein Nahi Hote

करीब से होकर जाने वाले
अक्सर नसीब में नहीं होते


Tu Mere Dil Pe Haath Rakh Ke Toh Dekh
Main Tere Haath Pe Dil Na Rakh Doon Toh Kehna

तू मेरे दिल पे हाथ रख के तो देख
मैं तेरे हाथ पे दिल ना रख दूँ तो कहना


Mujhe Paane Ki Tum Zidd Na Karo
Kisi Ki Chhodi Huyi Mohabbat Hoon Main

मुझे पाने की तुम ज़िद ना करो
किसी की छोड़ी हुई मोहब्बत हूँ मैं


Maanga Nahi Rab Se Tumhein
Lekin Ishara Tumhi Par Tha
Naam Beshaq Nahi Liya Magar
Pukara Tumhi Ko Tha

माँगा नहीं रब से तुम्हें
लेकिन इशारा तुम्ही पर था
नाम बेशक नहीं लिया मगर
पुकारा तुम्ही को था


Tere Saare Faisle Manzoor Hai Khuda
Magar Mujhe Mere Liye Wahi Shaksh Chahiye

तेरे सारे फैसले मंज़ूर है खुदा
मगर मुझे मेरे लिए वही शक्श चाहिए

Rahat Indori Shayari >>

Also Read:

Jaani Shayari
Two Line Shayari
Best Punjabi Shayari
Heart Touching Shayari

Hope you love our collection of Gulzar Shayari And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add new Shayari and Gulzar Sad Quotes In Hindi here.

Leave a Comment