Heart Touching [15+] Sad Poetry In Hindi

Sad Poetry In Hindi – If you are looking for Hindi Kavita then this page is only for you. Here we have a good collection of Sad Poetry In Hindi with Good Quality Sad Poetry Images that you can easily download and share.

Hope you love our collection of Poetry In Hindi  And if you like them, don’t forget to share them with your friends. We are continuously working to update and add New Kavita In Hindi here.


Sad Poetry in Hindi

Download

Sad Poetry In Hindi

एक शख्स –

वो कौन है जिसके बिना मुझे चैन नहीं मिलता
वो कौन है जो मुझमे घर करके बैठा है
घूम लिया गलियां, मंदिर मस्जिद घूम लिया
जाने वो एक शख्स कहाँ रहता है

कभी वो कहीं मिले तो कहना उससे
एक पागल है जो तेरे लिए शेर लिखते रहता है
उसे फूलों में भी खुशबु तेरी ही आती है
उसे पत्थर में भी तेरा ही अक्स दिखता है

मिल जाए मुझे चाहे बिछड़ने के लिए
वो आये दिल तोड़ने के लिए कहता है
ना जाने उसकी शकल-ओ-सूरत कैसी होगी
ना जाने वो किसी से इश्क़ कैसे करता है

इन निगाहों ने देखे जाने कितने चेहरे
कोई उसके जैसा नहीं ये दिल कहता है
ख़िलाफ़ हुए मेरे अपने मेरी सोच पर
शायद साफ़ नीयत का हश्र यही होता है

मज़ा नहीं है अब अकेले रहने में
मुझे भी किसी के अब दिल में रहना है
घूम लिया गलियां, मंदिर मस्जिद घूम लिया
जाने वो एक शख्स कहाँ रहता है


Best Heart Touching Poetry

मेरी ज़िन्दगी –

बड़ी बेकार है मेरी जिंदगी, एक सवाल है मेरी जिंदगी
बेवजह शोर करती है, एक रबाब है मेरी जिंदगी

ना दुनिया की है खबर, ना मेरी ये सुनती है
बेवजह बहकता रहता हूं, एक शराब है मेरी जिंदगी

ना खुशियों की कद्र है, ना राहत से दोस्ती है
मेरा सुकून ओढ़े रहती है, एक हिजाब है मेरी जिंदगी

हर शब्द झूठा है, हर ख्याल बेबस है
शायरों की फेंकी हुई, एक किताब है मेरी जिंदगी

जो मुझसे ही अनजान है, बस ज़रा सी जान है
जो कभी सच हो ना सके, एक ख्वाब है मेरी जिंदगी

दुनिया को लगता है आसान है मेरी जिंदगी
मौत का एक फरमान है मेरी जिंदगी
मुझ पर एक एहसान है मेरी जिंदगी
बस पल दो पल की मेहमान है मेरी जिंदगी


Sad Poetry in Hindi

Download

Best Heart Touching Poetry

क़ैद –

असर ये हुआ उसके जाने से
आवाज़ आने लगी मैखाने से
बातें करने लगा मैं रातों से
धूल उड़ने लगी किताबों से

हर क़तरा जाम का शौक से पिया गया
हर शौक पूरा किया इन हाथों से
फिर उसकी कही बातें भी आती है याद
आने दो क्या ही होता है बातों से

बेबस पंछी आज अब्र का राजा है
अब तो उसको डर नहीं हवाओं से
आने वाले जो थे सारे अपने थे
कोई गिला नहीं है जाने वालों से

धीरे धीरे याद भी उसकी जाएगी
दर लगता है मुझको उसकी यादों से
अब ज़ुल्फ़ों के जाल से दूर ही रहना है
क़ैद था मैं इस जाल में सालों से


Sad Poetry In Hindi Text 

तुमने कहा था –

तुमने कहा था तुम सब छोड़ आओगे
रोकने वाले सब रिश्ते तोड़ आओगे
मैं दरिया होकर भी प्यासा ही रहा
तुम बंजर होकर भी गुल खिलाओगे

कोशिश भी नहीं की पलटने की तुमने
कहते थे चांद तारे तोड़ लाओगे
मुझको बस एक किस्सा बना दिया
अब तुम नहीं कहानी बनाओगे

यादों को बैसाखी बनाकर रखेंगे
और तुम ख्वाबों में आकर सताओगे
कोशिश करना कि अब उसके ही रहो
एक ही बहाना कब तक बनाओगे

मेरे इश्क पर मुझे इतना यकीन है
मुझे याद करके तुम आंसु बहाओगे
लोग पूछेंगे कि तुम्हारा मर्ज क्या है
तुम मेरी तरफ नजर घुमाओगे


Sad Poetry in Hindi

Download

Best Hindi Poetry on Life

जाओ ना –

मुझे उदास कर रहे हो जाओ ना
मतलब की बात कर रहे हो जाओ ना
हार कर आये हो अपना इश्क़ तुम
बहुत परेशान लग रहे हो जाओ ना

कहाँ से आये थे मेरे दिल में तुम
अब गैर लग रहे हो जाओ ना
ढूंढ लो कोई नया बहाना तुम
बदल गया हूँ मैं भी अब जाओ ना

गिर रहे हो अपनी ही नज़रों से तुम
कुछ तो करो शर्म जाओ ना
आँखें भीगी लग रही है क्या हुआ
तुम भी मुझसे लग रहे हो जाओ ना

भर गए जो थे पुराने ज़ख्म अब
फिर नए बना रहे हो जाओ ना
पास कब्र के ही बैठे रहोगे क्या
बुला रही है ज़िन्दगी जाओ ना


Sad Poetry in Hindi

Download

Heart Touching Love Poetry In Hindi

ठीक नहीं –

रूकती नहीं ज़िन्दगी किसी के जाने से
खुद को इतना पागल करना ठीक नहीं
इश्क़ तो बस सफर का नाम है
इश्क़ को मंज़िल समझना ठीक नहीं

हर मौसम की अपनी एक खूबी है
बेवक़्त की बारिश भी ठीक नहीं
कैसे कहूं मैं किस सफर से लौटा हूँ
बस समझ लो इश्क़ करना ठीक नहीं

तस्वीरों को आग लगाकर बैठे हैं
बेवफा की बात भी करना ठीक नहीं
उससे कहो मैं उससे दूरी चाहता हूँ
उसका मुझसे ये कहना भी ठीक नहीं

पिंजरे के जो आदी हो उन पंछी को
आसमान में छोड़ देना ठीक नहीं
अच्छी अच्छी बस्ती डूब जाती है
दरियाओं से बैर करना ठीक नहीं


Sad Poetry in Hindi

जीतेंगे –

उठता धुआं है पैरों के नीचे
ख्वाबों को अपनी मेहनत से सींचे
लगता नहीं डर गिरने से हमको
हाथों में ताकत और खुद रब है पीछे

आगे ही बढ़ना है अब
मुड़ना ना रुकना है अब
शीशे से लेके इरादे
पत्थर से लड़ना है अब

अंगारे आँखों में है
गर्माहट साँसों में है
निगाहें हैं रुकी लक्ष पर
ज़िक्र मंज़िल का बातों में है

मौका है अब हाँ जीतेंगे हम हाँ
लहरेगा अब तिरंगा आसमान में
गहरे इरादे हाँ खुद से हैं वादे हाँ
छाएंगे हम अब छाएंगे जहान में

क़िस्मत बदलकर आएंगे
हम क्या है ये दिखलाएंगे
ख्वाहिश अधूरी थी जितनी
आज हम सच कर जाएंगे

आगे ही बढ़ना है अब
मुड़ना ना रुकना है अब
शीशे से लेके इरादे
पत्थर से लड़ना है अब

अंगारे आँखों में है
गर्माहट साँसों में है
निगाहें हैं रुकी लक्ष पर
ज़िक्र मंज़िल का बातों में है


Sad Poetry in Hindi

Download

Heart Touching Kavita in Hindi

देखा ना गया –

मुझसे उसका जाना देखा ना गया
उसके बाद फिर ज़माना देखा ना गया
उसके होने वाले महफ़िल की जान होंगे
हमें फिर शहर में कभी देखा ना गया

उसके दिए हुए अब ज़ख्म भरने लगे
चरसाज़ों से मेरा दर्द देखा ना गया
क़ैद हुए बैठे हैं सब अपनी क़िस्मत में
सुना है यहाँ कोई परिंदा देखा ना गया

बदल गयी है हवा अब मौसम ठंडा है
आशिक़ों में अब वो लावा देखा ना गया
जिसे छोड़ आए हम यादों के सहारे
हमसे अब वो खाली कमरा देखा ना गया

अब वो किसी और के हुजरे की शान है
मुझसे उसके माथे पर टीका देखा ना गया
जहन्नुम की देखलीज़ पर एक बैठी है
मुझसे मेरी रूह का तड़पना देखा ना गया


Sad Poetry in Hindi

Download

Best Kavita In Hindi

रंगीन ख्वाहिशें –

गुज़र रहे हैं उम्र के उस पहर से
ख्वाहिशें जहाँ ज़रा रंगीन होती हैं
शरारतों के बाद वाला सफर है ये
जहाँ गलतियां भी संगीन होती है

जिस्म इंसानी और खुशबु फूलों की
नज़रें गुलाब देखने की शौक़ीन होती है
मर गए जो हम अब आशिक़ कहलायेंगे
सबके नसीब में कहाँ ज़मीन होती है

कभी कभी खुद पर ही इलज़ाम लगाए हैं
कभी ज़माने भर में तौहीन होती है
यूँ तो अब क़िस्मत में अँधेरे ही रहे
कोई सवेरा लाएगा तस्कीन होती है

गुज़र रहे हैं उम्र के उस पहर से
ख्वाहिशें जहाँ ज़रा रंगीन होती हैं
शरारतों के बाद वाला सफर है ये
जहाँ गलतियां भी संगीन होती है


New Kavita In Hindi

जो तू मेरा यार है –

कैसे तुमको हम समझाएं
कितना तुमसे प्यार है
दुनियां की अब फ़िक्र करें क्यों
जो तू मेरा यार है

तुझमे ही नींदें मेरी है
तुझमे ही हर ख्वाब हैं
दुनियां की अब फ़िक्र करें क्यों
जो तू मेरा यार है

तेरे प्यार ने पागल है किया
ये रोग भी अच्छा है
दुनियां फरेबों वाली में
मेरा इश्क़ ये सच्चा है

नदियों में पैर डुबोए क्यों
समंदर मेरा है
काफिर ये दिल जाना
दीवाना तेरा है

कैसे तुमको हम समझाएं
कितना तुमसे प्यार है
दुनियां की अब फ़िक्र करें क्यों
जो तू मेरा यार है

जो तू मेरा नाम पुकारे
लगे रब ने पुकारा है
थी बिखरी ज़िन्दगी मेरी
इसे तुमने सवारा है

खुदा को भी तू है प्यारा
तुझ ही में रहता है हर पल
प्यार में तेरे मैं यूँ डूबा
शराबी कहते सब आज कल

कैसे तुमको हम समझाएं
कितना तुमसे प्यार है
दुनियां की अब फ़िक्र करें क्यों
जो तू मेरा यार है


Heart Touching Poetry In Hindi

ऐसी तो कोई बात नहीं –

क्या तुम्हारा है कोई
ऐसी तो कोई बात नहीं
तो फिर खुद के साथी हो तुम
ऐसी तो कोई बात नहीं

गम दिए हैं लोगो ने क्या
ऐसी तो कोई बात नहीं
फिर गम ही हयात है क्या
ऐसी तो कोई बात नहीं

उस खुदा का हाथ है सर पे
बेशक मेरे साथ है वो
फिर खुदा से रूठे हो क्यों
ऐसी तो कोई बात नहीं

सबको तुमसे है मोहब्बत
ऐसी तो कोई बात नहीं
तुम किसी से करता हो क्या
ऐसी भी कोई बात नहीं

मसला कोई रूहानी है क्या
ऐसी तो कोई बात नहीं
ज़ख्म मिले जिस्मानी है क्या
ऐसी तो कोई बात नहीं

मर गए हो अंदर से क्या
हाँ शायद कुछ ऐसा है
शायद अब तुम शायर हो
ऐसी तो कोई बात नहीं


Sad Poetry in Hindi

बिछड़न –

एक रास्ता इश्क़ का एक ज़िन्दगी का
हमने इश्क़ करना मुनासिब समझा
भर गया वो उसे दूर जाना था
हमने दूर जाना ही मुनासिब समझा

उसने रिश्ता निभाया गैरों की तरह
हमने उस गैर को अपना समझा
वार किया उसने दिल पे कई हज़ार
हमने उसका हर सितम अपना समझा

अब गया है वो एक ठंडे शहर में
उसकी छाओं को भी हमने धुप समझा
किसी का होकर वो खुश बहुत है
वो खुश तो हमने खुदको खुश समझा

बिछड़ जाने से मोहब्बत कम नहीं होती
बिछड़ जाने पर हमने ये समझा
उसकी यादें तो अब मिराज सी हैं
उस मिराज को भी हमने सच समझा

हैरत कैसी अब हिज्र पे
हमने हिज्र को अपना समझा
तनहा हूँ और ठीक हूँ अब
हमने यार को एक खाब समझा


Best Hindi Poetry on Life

क्यों नहीं –

होने लगी है अब घुटन
दिल की दीवारों से
अपना कह कर मुझको कोई
बुलाता क्यों नहीं

खुद को ही कमज़र्फ कह कर
खुद को ही फिर माफ़ करना
गले लगा कर मुझको कोई
मनाता क्यों नहीं

भीगना है मुझको भी
दरिया-ए-इश्क़ में
इस दरिया में मुझको कोई
भीगता क्यों नहीं

हो गए मशरूफ सब
अपने यार में
मुझको यार कह कर कोई
बुलाता क्यों नहीं

सोए हुए थे ख्वाहिश में
ख्वाब हसीन आएंगे
ख्वाबों में आ कर कोई
सताता क्यों नहीं

होने लगी है अब घुटन
दिल की दीवारों से
अपना कह कर मुझको कोई
बुलाता क्यों नहीं

Sad Poetry In Hindi

तुम मर जाओगे –

यूँ महफिल में हमें बदनाम करते हो
ये गुनाह भी सरेआम करते हो
खुद को खुदा के नाम कर जाओगे
हम सच बोल दे तो तुम मर जाओगे

किसी से वादे मोहब्बत किसी से
वक्त आने दो तुम भी संभल जाओगे
बेवफाओं को खुदा भी कबूलता नहीं
तुम किस मुंह से उस दर जाओगे

ये मोहब्बत बाज़ारी चीज़ नहीं काफिर
तुम बताओ खरीदने भी किधर जाओगे
कोई मिले महबूब तुम्हें तुम्हारी ही तरह
तुम भी मोहब्बत से डर जाओगे

दबा रखे हैं कुछ राज़ हमने भी
बता दिए तो कुछ कर गुज़र जाओगे
खुद को खुदा के नाम कर जाओगे
हम सच बोल दे तो तुम मर जाओगे


Heart Touching Kavita in Hindi

पागल जैसा कोई नहीं –

देखे अच्छे लोग बहुत
पागल जैसा कोई नहीं
अक्ल वालों की दुनियां में
पागल जैसा कोई नहीं
कंधे पर हाथ रख के
सौप देना खाई को
अपनों में देखे दुश्मन
अपनों जैसा कोई नहीं

सब मतलब के मारे हैं
मेरे जैसा कोई नहीं
आग लगाए रिश्तों को
पानी जैसा कोई नहीं
टूटे हुए ही पत्तों को
और कुचल के जाते हैं
हाथ थाम ले गिरे हुए का
पागल जैसा कोई नहीं

आशिक़ को पागल कहते हैं
पागल जैसा कोई नहीं
माशूक को जन्नत कहता है
पागल जैसा कोई नहीं
माने राधा कृष्णा को
पर इश्क़ को माने कोई ना
जो इश्क़ को ही रब कहता है उस
पागल जैसा कोई नहीं


Sad Poetry in Hindi

अधूरी ख्वाहिश –

शब्-ए-हिज्र भी हमें नसीब ना हुयी
तुम गए यूँ के खबर ना हुयी
ज़माने भर को जलाकर घर आये
घर आये के कहानी पूरी ना हुयी

टूट कर गिरा एक तारा आंगन में
के ख्वाहिश नसीब से हार गयी
मुमकिन है के मैं भूल जाता उसे
पर जाते जाते वो पागल मुझे कर गयी

सवर जाते हम भी दरिया-ए-इश्क़ में
दिल में तुम्हें पनाह दी खता हमसे हुयी
बड़ा गुरूर था मोहब्बत पर हमको
नसीब तो देखो मोहब्बत तुमसे हुयी

घर, दिल, खुशियां, ख़ामोशी
कैसे कहूं के मेरी क़िस्मत उजड़ गयी
अलफ़ाज़, जज़्बात, ख्वाहिश, बेचैनी
कैसे जियूं के मेरी रूह मर गयी

मैंने रो रो कर ख़तम किये आंसू
होता अगर वो मेरा आता मेरे पास
मुझको यकीन है इश्क़ पे मेरे
याद करेगा रोएगा वो भी मेरे बाद

एक वो अधूरी ख्वाइश पूरी ना हुयी
उसको मेरी ज़रुरत ज़रूरी ना हुयी
ज़माने भर को जलाकर घर आये
घर आये के कहानी पूरी ना हुयी


Short Poem In Hindi

बुरे अच्छे थे –

सुकून थी ज़िन्दगी मोहब्बत के बगैर
क्यों मिली नज़रें हम अंधे अच्छे थे
हर शौक छोड़ दिया मोहब्बत के आगे
क्यों बने अच्छे हम बुरे अच्छे थे

हाथों में जाम हुआ करता था कभी
फिर हाथों में तेरा हाथ आ गया
भटक रहा था तन्हाइयों की गलियों में
छोड़ तन्हाईयाँ तेरे साथ आ गया

याद किया मगर याद आया नहीं
कुछ यूँ ज़ेहन से तेरा चेहरा मिटा दिया
खुद को थाम रखा था खुद में ही मैंने
तेरे बाद खुद को खुद में लुटा दिया

दीवारे जानती हैं मंज़र दिल का मेरे
अब तो हाल-ए-दिल भी बताया नहीं जाता
बाद तेरे कोई मेरा हो नहीं पाया
मुझसे किसी और को सताया नहीं जाता

तेरी रूह का दुश्मन साथ तेरे होगा
अब जो होगा साथ तेरे बाद मेरे होगा
आँखों से आंसू नहीं याद बहेगी मेरी
तुझे मुझ पर यकीन बाद मेरे होगा


Sad Life Poetry

ज़रूरी था –

इश्क़ को तरसना भी ज़रूरी था
आँखों का बरसना भी ज़रूरी था
था ज़रूरी के हम दोनों एक हो जाते
फिर मोहब्बत में बिछड़ना भी ज़रूरी था

तेरा काँधे पे सर रखना
हाथ फिर थाम लेना भी
मुझे पागल बनाकर फिर
छोड़ना भी ज़रूरी था

मेरी दुनियां में आए तुम
मुबारक इश्क़ हो तुमको
सजाकर घर मोहब्बत का
जलाना भी ज़रूरी था

करके वादा मुकरना भी ज़रूरी था
बहक कर संभलना भी ज़रूरी था
ज़रूरी था मोहब्बत आज़माए हम
मोहब्बत मेरी तबाह होना ज़रूरी था

ऐ दिल तू भी संभल जा अब
हुआ वही था होना जो
हिज्र पे कैसा मातम है
हुआ वही था होना जो

तमाशा बन गया तेरा
वफ़ा से तू भी दूर था
कमाए ज़ख्म तूने पर
दुआ देना ज़रूरी था

इश्क़ को तरसना भी ज़रूरी था
आँखों का बरसना भी ज़रूरी था
था ज़रूरी के हम दोनों एक हो जाते
फिर मोहब्बत में बिछड़ना भी ज़रूरी था


New Kavita In Hindi

मेहरबानियां –

मुझे खुद से जो दूर किया मेहरबानियां
दिल को रोने पे मजबूर किया मेहरबानियां
प्यार का जो इनाम दिया मेहरबानियां
सरेआम बदनाम किया मेहरबानियां

तुमसे जो इश्क़ निभा बैठे
हम अपनी ही कब्र सजा बैठे
खाब जो तुमने दिखाया हसीन
हम अपने ही सपने जला बैठे

आग में ठंडक अब मिलती मुझे
धुप में राहत अब मिलती मुझे
पत्थर भी मुझसे ही लगता मुझे
अंधेरों में जन्नत अब मिलती मुझे

अपना बना के छोड़ दिया मेहरबानियां
तूने दिल मेरा तोड़ दिया मेहरबानियां
घर जलाया मोहब्बत का मेहरबानियां
है तू कितना बेगैरत सा मेहरबानियां

कर देंगे तुम्हें खुद से जुदा
पहले रातें मेरी लौटाओ मुझे
कैसे हुई इतनी नफरत तुम्हें
बेवफाई की वजह बताओ मुझे

कैसे सुकून है मिलता तुम्हें
हमको तो नींद भी आती नहीं
मांगी खुदा से तोहफे में लेकिन
हमको तो मौत भी आती नहीं

मेहरबानियां, मेहरबानियां
मेहरबानियां बड़ी मेहरबानियां


Best Heart Touching Poetry

जज़्बात बता कर क्या करना –

उसको मन कर क्या करना
हालात बता कर क्या करना
वो मेरा तो हो सकता नहीं
जज़्बात बता कर क्या करना

मर गया है दिल मेरा
खून पिला कर क्या करना
ज़हर मुझे भी देदो अब
ये घर बचा कर क्या करना

वो तो वक़्त का मारा है
उससे नफरत क्या करना
मेरा क़ातिल खुदा मेरा
खुद पे रेहमत क्या करना

लिखा नहीं जो क़िस्मत में
उसकी चाहत क्या करना
ये तो एक दिन होना था
हिज्र पे हैरत क्या करना

बदल गए तो बदल गए
अश्क़ बहाकर क्या करना
इश्क़ से तौबा कर बैठे
किसी और का होके क्या करना

कोई रस्म निभा कर क्या करना
उसकी कसम निभा कर क्या करना
वो जा चुकी है शहर से
उस गली में जा कर क्या करना

Dard Bhari Shayari In Hindi>>


Also Read:

मैं आशा करता हूँ आपको  ये Heart Touching Shayari ज़रूर पसंद आयी होंगी मैं ऐसी ही हिंदी शायरी के Collection Sirfshayari.in पर पब्लिश करता रहता हूँ। आप इस पेज को Bookmark कर सकते हैं यहाँ मैं नयी नयी Heart Touching Shayari करता रहूँगा। आप मुझसे जुड़ने और Direct मुझसे बात करने के लिए मेरे Instagram Page को ज्वाइन कर सकते हैं।